Visitors Views 3902

IMD: बेमौसम बारिश पर मौसम विज्ञान का अलर्ट, मध्यप्रदेश के साथ ही इन राज्यों के किसानों को मिली चेतावनी

breaking देश नज़रिया

जनवकालत न्यूज़ /  नई दिल्ली | देश के कुछ क्षेत्रों में बेमौसम बारिश और ओले पड़ने से किसानों को काफी नुकसान हुआ है। वहीं शनिवार को भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने अगले कुछ दिनों में बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि की आशंका को देखते हुए पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश के किसानों को गेहूं और अन्य रबी फसलों की कटाई टालने की सलाह के साथ ही चेतावनी भी दी है।

आईएमडी ने कहा कि 19 मार्च को उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर आंधी, बिजली, तूफान और ओलावृष्टि की संभावना है। साथ ही 20 मार्च को पश्चिम उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पूर्वी राजस्थान में और उत्तराखंड में 21 मार्च को ओलों के साथ बारिश होने की संभावना है।

पकी हुई फसलों को लेकर आईएमडी ने किसानों को कुछ राज्यों में सरसों और चना जैसी फसलों की जल्द से जल्द कटाई करने और उन्हें सुरक्षित स्थानों पर संग्रहीत करने की सलाह दी है। साथ किसानों की फसल न गिरे इससे बचाने के लिए गेहूं की फसल की सिंचाई नहीं करने को भी कहा गया है।

आईएमडी ने कहा कि पिछले 24 घंटों में देश के अधिकांश हिस्सों में हल्की/मध्यम बारिश और गरज के साथ ओले पड़े हैं। पिछले 24 घंटों में उत्तराखंड, राजस्थान, पश्चिम मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, गुजरात, आंध्र प्रदेश में रायलसीमा और उत्तर आंतरिक कर्नाटक में ओलावृष्टि भी देखी गई।

आईएमडी ने कहा कि 19 मार्च को उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में अलग-अलग स्थानों पर आंधी, बिजली, तूफान और ओलावृष्टि की संभावना है। साथ ही 20 मार्च को पश्चिम उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पूर्वी राजस्थान में और उत्तराखंड में 21 मार्च को ओलों के साथ बारिश होने की संभावना है।

आईएमडी ने बयान में कहा है कि तेज हवा/ओलों से खड़ी फसलों को नुकसान हो सकता है, खुले स्थानों पर लोग और मवेशी घायल हो सकते हैं। आईएमडी ने किसानों को “पंजाब, हरियाणा और पश्चिम मध्य प्रदेश में फसलों की कटाई को स्थगित करने की सलाह दी; यदि पहले से ही कटाई हो चुकी है, तो नुकसान से बचने के लिए सुरक्षित स्थानों पर स्टोर करने को कहा है।

राजस्थान के किसानों को सलाह दी गई है कि वे परिपक्व सरसों और चना की जल्द से जल्द कटाई कर सुरक्षित स्थान पर भण्डारण कर लें। इसी तरह पूर्वी मध्य प्रदेश के किसानों को सरसों, चना और गेहूं की तत्काल कटाई कर सुरक्षित स्थान पर रखने को कहा गया है। महाराष्ट्र में किसानों से तुरंत गेहूं, दाल और अंगूर की फसल काटने को कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitors Views 3902