Visitors Views 135

पर्दे के पीछे वह कौन है जो आरोपियों को संरक्षण दे रहे हैं?

breaking रतलाम

भोली भाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को पता ही नहीं कि उन्हें क्यों बुलाया…

रतलाम | प्रकाश तंवर
महिला बाल विकास विभाग रतलाम की जिला कार्यक्रम अधिकारी सुषमा भदोरिया को जिलाधीश श्रीमती चौहान की अनुशंसा पर संभागायुक्त ने जावरा स्थित कुंदन कुटीर बालिका गृह में संदिग्ध गतिविधियों पर नियमानुसार कार्यवाही नहीं करने के कारण निलंबित कर दिया। बदले में सुषमा भदोरिया ने भोली भाली छोटी नौकरी करने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को लामबंद करने के लिए शातिर दिमाग वाली अन्य महिला कर्मचारियों जिसमें आंगनवाड़ी सुपरवाइजर से लगाकर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं की राजनीति करने वालियों ने नवागत प्रभारी अधिकारी लक्ष्मी गामड़ को भदोरिया की वकालत कर ज्ञापन सौंपा। जन चर्चा यह है कि आखिर लोकतंत्र का कुछ मुट्ठी भर शातिर दिमाग वाले वैâसा दुरुपयोग कर रहे हैं। कई आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को पता ही नहीं था, कि उन्हें किस काम से पर्दे के पीछे काम करने वालों ने बुलाया है। राजनीति संगठन से जुड़ी कुछ आंगनवाड़ी नेत्रिया आखिर किसकी शह पर शासकीय एवं नैतिक कार्यों में बाधा एवं व्यवधान उत्पन्न कर रही है। ऐसी चालाक दोहरा मापदंड रखने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं को इकट्ठा करने वाली नैत्रियो पर शासन को सूक्ष्मता से जांच करना चाहिए, तथा भोली भाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के शासन स्तर पर बयान लेकर जांच प्रभावित करने वाली नैत्रियो एवं उनके सिरमोर जिम्मेदारों पर अनुशासनात्मक कार्यवाही करना चाहिए। महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती इमरती देवी को शीघ्र ही शहर के कुछ जिम्मेदार वस्तुस्थिति से अवगत करवाएंगे। एक तरफ जिम्मेदार महिलाओं ने अपने रसूख के दम पर दबी कुचली महिलाओं की आवाज दबाई, वहीं दूसरी तरफ चाटुकार लोग शासन एवं सरकार पर दबाव बनाने की योजनाएं लांच कर रहे हैं। आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा दिया जाने वाला ज्ञापन इसी योजना की एक कड़ी है। जिसका जल्दी पर्दाफाश होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitors Views 135