Visitors Views 184

भारतीय सांस्कृतिक एकता के सूत्र को मजबूती प्रदान करता है गणेशोत्सव…

breaking रतलाम

रतलाम | प्रकाश तंवर
गौरा के नंद गणेश को मनाने के लिए भक्तगण ना-ना प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजनों का भोग लगाते है। पूजा-अर्चना करते है। और एकदंत महाराज सबकी मनोकामनाएं पूर्ण करते है। इसी आध्यात्मिक पूट को, रचनात्मक एवं भावनात्मक रूप से देश में आजादी के संघर्ष के समय हमारे राष्ट्र के बालगंगाधर तिलक जिन्हें हम लोकमान्य बालगंगाधर तिलक के नाम से जानते है। जिन्होंने भारतीय सांस्कृतिक एकता के सूत्र को मजबूत करने के उद्देश्य से देश में गणेशोत्सव का आयोजन प्रारम्भ किया। जो आज देशभर में छोटी से छोटी गली से लगाकर बड़े-बड़े सार्वजनिक पण्डालों में धूम-धाम से सिद्ध विनायक गजानंद की आराधना की जा रही है। इसी तारतम्य में जवाहर नगर मेन रोड़ पर भी शिवाय ग्रुप के तत्वाधान में गणपति उत्सव मनाया जा रहा है। जिसमें रतलाम शहर युवक कांग्रेस अध्यक्ष मयंक सिंह जाट एवं विप्लव जैन के मुख्य आतिथ्य में महाआरती, महाप्रसादी का वितरण किया गया। उक्त धार्मिक कार्यक्रम में क्षैत्र की सैकड़ो धर्मप्राण जनता बढ़चढ़कर हिस्सा ले रही है। कार्यक्रम के आयोजनकर्ता- हेमंत गुर्जर, अंकित धवन, प्रतिक मोहिते, देवेन्द्र गुर्जर, मुुकुल मोहिते, दीपू परिहार आदि ने मुख्य अतिथि श्री जाट का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitors Views 184