Visitors Views 383

पीएम का देश को संदेश- 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं

breaking देश

नई दिल्ली। जनवकालत न्यूज़

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेे कोरोना महामारी के बीच शुक्रवार को देशवासियों के साथ 11 मिनट का एक वीडियो मैसेज साझा किया। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ अब तक 9 दिन के लॉकडाउन में सभी लोगों ने अनुशासन और सेवा का परिचय दिया। कोरोनावायरस के संक्रमण की चपेट में आने से देश में अब तक 60 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। देशभर में 2 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित हैं। मोदी लगातार सभी राज्यों के संपर्क में हैं। गुरुवार को उन्होंने मुख्यमंत्रियों के साथ दूसरी बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की। प्रधानमंत्री ने कहा है कि कोरोना के खिलाफ जागरुकता अभियान में धर्मगुरुओं की मदद ली जाए।

मोदी इस महामारी के खतरे के बीच 2 बार राष्ट्र के नाम संबोधन दे चुके हैं। पहली बार में उन्होंने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने और कोरोना फाइटर्स के सम्मान में ताली-थाली बजाने की बात कही थी। इसके बाद 24 मार्च के दूसरे संबोधन में 21 दिन के लॉकडाउन की बात कही थी। यह लॉकडाउन 14 अप्रैल को खत्म होगा।

हमने दुनिया को शक्ति का अहसास कराया-

प्रधानमंत्री ने कहा- ‘‘देशवासियों नमस्कार। कोरोना के खिलाफ लॉकडाउन को आज नौ दिन हो रहे हैं। आप सभी ने अनुशासन, सेवा का परिचय दिया है। प्रशासन ने भी स्थिति को संभाला है। आपने जिस तरह 22 मार्च को जैसे कोरोना फाइटर्स को धन्यवाद दिया। उसे पूरी दुनिया अपना रही है। हमने दुनिया को भारत की सामूहिक शक्ति का अहसास कराया है।’’

अकेले रहने का समय, लेकिन कोई अकेला नहीं
मोदी ने कहा, ‘‘आज देश के करोड़ों लोग घरों में हैं तो किसी को भी लग सकता है कि कितने दिन और काटने पड़ेंगे। साथियों ये समय अकेले रहने का जरूर है, लेकिन हममें से कोई अकेला नहीं है। देश की भव्यता की अनुभूती करनी जरूरी है। जनता महाशक्ति है, ये लड़ाई आपके बगैर संभव नहीं है। कोरोना के अंधकार के बीच हमें प्रकाश की ओर जाना है। गरीब भाई-बहनों को कोरोना से पैदा हुई निराशा से आशा की ओर लेकर जाना है। अंधकार मय कोरोना को हराने के लिए प्रकाश फैलाना है। रविवार 5 अप्रैल को हमें 130 करोड़ देशवासियों के संकल्प को नई ऊंचाई पर लेकर जाना है। इस रात 9 बजे आप घर की लाइटें बंद करके दरवाजे पर मोमबत्ती, दिया या मोबाइल लाइट जलाएं। 9 मिनट तक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitors Views 383