Visitors Views 222

दिल है छोटा-सा छोटी सी आशा…अगर मन मे दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो सब सम्भव हैं- पंडित संजय शिव शंकर दवे

breaking रतलाम

जनवकालत। रतलाम

शहर क़े पटरी पार विनोबा नगर मुक्तिधाम क़े समीप खुले पड़े नाले क़े पास जहाँ किसी समय चारों तरफ़ कचरा व घोर गन्दगी व्याप्त हुआ करती थी , जहाँ से राहगीर निकलने से कतराते थे औऱ कभी निकलना भी होता तो मुँह नाक़ पर कपड़ा लगाकर निकलते थे, तो सोचिये स्थानीय रहवासियों क़ा क्या हाल होता होंगा। अधिकांश राहगीर यहाँ आते जाते कचरा फेक देते थे औऱ आसपास क़े मृत जीव भी यही खुले पड़े में फेंक जाते थे, अनेकों प्रयासों आवेदनो क़े उपरान्त भी जब कोई स्थाई समाधान न निकल सका तो स्थानीय युवाओं ने  पं. दवे के नेतृत्व में स्वयं जनजाग्रति का बिड़ा उठाया, औऱ लम्बे समय तक बारी बारी से कचरा फेकने वालों से अनुरोध प्रार्थना करते कि वो यहाँ कचरा न फेंके औऱ सारी साफ़सफाई का जिम्मा खुद उठाने का निर्णय लिया। आज सभी स्थानीय युवावर्ग क़े अथक प्रयासों ने इस स्थान को पूर्णतः स्वस्थ्य औऱ सुंदर बना दिया हैं। जहाँ किसी समय गन्दगी हुआ करती थी, आज वहाँ 10 से 15 फ़िट क़े पेड़ लहलहा रहे हैं। जहाँ से लोग गुजरने से कतराते थे, आज रोज़ प्रातः वही लोग रुककर कसरत, योग किया करते हैं , साथ ही यहाँ राहगीरों क़े बैठने क़े लिये युवाओं ने मिलकर एक सुन्दर कुटिया क़ा निर्माण भी किया हैं, जिसका नाम सार्थक कुटिया दिया गया हैं,  जिसमें आने वाली भीषण गर्मी में आराम से बैठने हेतु बैठक व्यवस्था व जलपान की व्यवस्था रखी हैं,
युवाओं क़े इस प्रयास को देखते हुए निगम आयुक्त महोदय ने कुटिया में निगम की तरफ़ से रात्रि में लाईट की व्यवस्था भी की हैंं। मुक्तिधाम क़े ट्रस्टी पं.शैलेन्द्र शर्मा द्वारा कुटिया में मुक्तिधाम से पौधों में नियमित जल देने हेतु ड्यूब्वेल कनेक्शन भी प्रदान किया हैं। अब समय समय पर स्थानीय युवाओं द्वारा सफ़ाई व पौधों में जल किया जाता हैं, अब तो इस सेवा कार्य मे इंद्रानगर, वरदान नगर, सहित आसपास क़े रहवासी भी सहयोग हेतु आगे आते जा रहे हैं। पं. दवे ने कहा कि अगर शहर के हर  क्षेत्र के युवा इस प्रकार अपने क्षेेत्र को स्वच्छ रखने का बीड़ा उठा ले तो निश्चित ही हमारा शहर भी  स्वच्छता में  नंबर वन  हो जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Visitors Views 222